WhatsApp Group Join Now
Telegram Group Join Now

क्या सच में “2 सिम के इस्तेमाल पर देना होगा चार्ज” क्या है सच्चाई जाने

अब आप सबके लिए ऐसे लोगों के लिए खासतौर पर एक जरूरी खबर जिनके पास जिनके मोबाइल फोन में दो सिम कार्ड है। टेलीकॉम रेगुलेटरी अथॉरिटी ऑफ इंडिया ने एक नया सुझाव दिया है कि हर मोबाइल नंबर पर टेलीकॉम कंपनियों को एक अतिरिक्त शुल्क देना होगा और यह शुल्क वन टाइम फीस या एक वार्षिक फीस के तौर पर दी जा सकती है।

टीआरएआई के सुझाव को लेकर बहुत सारे लोग यह बात पर दावा कर रहे हैं कि अब लोगों को मोबाइल फोन के सिम कार्ड के लिए हर साल सरकार को एक निश्चित फीस देनी होगी और जो सिम कार्ड अभी लोग जितने भी चाहे मात्रा में खरीद लेते हैं अब वह ऐसा नहीं कर पाएंगे।

क्या सच में "2 सिम के इस्तेमाल पर देना होगा चार्ज" क्या है सच्चाई जाने

क्योंकि हर सिम कार्ड का आपको एक फीस देनी पड़ेगी या समझ लीजिए उसका किराया देना पड़ेगा। देखिए अभी आपको सिम कार्ड मुफ्त में मिलता है ना तो आप उसका कोई किराया देते हैं ना उस पर कोई फीस देते हैं यह मुफ्त है। और जो टेलीकॉम कंपनियां है वह मुफ्त में ज्यादा से ज्यादा सिम कार्ड बेच रही है यह दावा सोशल मीडिया और कई मीडिया रिपोर्ट्स में किया गया कि टीआरएआई ने अब इस पर स्पष्टीकरण दिया और इन खबरों को फेक न्यूज़ बताया है।

टीआरएआई का कहना है कि उसने अपने कंसल्टेशन पेपर में सिम कार्ड के उपयोग पर फीस लगाने का प्रस्ताव जरूर दिया है लेकिन यह फीस सिम कार्ड उपभोक्ताओं के लिए नहीं बल्कि सिम कार्ड जारी करने वाली टेलीकॉम कंपनियों के लिए होगी।

टीआरएआई का कहना है कि भारत में अभी मोबाइल फोन नंबर्स के लिए जो सिम कार्ड जारी होते हैं उन्हें लेकर देश में उसी नीति का पालन हो रहा है जो उस समय आई थी जब हमारे देश में मोबाइल फोन ना के बराबर थे जबकि अब हमारे देश में लगभग हर व्यक्ति के पास मोबाइल फोन है और देश में हर 100 लोगों पर 85 सिम कार्ड हैं।

भारत में कुल मिलाकर 119 करोड़ मोबाइल सिम कार्ड मौजूद है 119 करोड़ मोबाइल सिम कार्ड जिनमें 22 करोड़ सिम कार्ड ऐसे हैं जो उपयोग नहीं हो रहे और जिन पर इनकमिंग और आउटगोइंग कॉल की सेवा बंद है, लेकिन इसके बावजूद टेलीकॉम कंपनियों ने इन एक्टिव सिम कार्ड्स को अभी तक बंद नहीं किया है और इसी मनमानी को रोकने के लिए टीआरएआई ने यह कहा है कि अब सिम कार्ड जारी करने के लिए इन कंपनियों पर एक निश्चित फीस लगानी चाहिए।

लेकिन इसका मतलब यह बिल्कुल नहीं कि यह फीस आपसे ली जाएगी टीआरएआई का कहना है कि अभी टेलीकॉम कंपनियां सिम कार्ड्स को इसलिए बंद नहीं करती क्योंकि ये सिम कार्ड उनके कस्टमर बेस को बढ़ाते हैं और जो लोग दो सिम कार्ड रखते हैं उनमें एक सिम कार्ड का इस्तेमाल नहीं करते ऐसे मामलों में नीति बदलने के लिए टीआरएआई ने यह सुझाव दिया।

लेकिन यहां यह फीस आपके लिए नहीं बल्कि टेलीकॉम कंपनियों के लिए प्रस्तावित की गई है तो मैं आपको स्पष्ट कर दूं कि आपके पास आजकल बहुत सारे लोग एक से ज्यादा सिम कार्ड रखते हैं और Trai ने कहा कि यह बात सही नहीं है टेलीकॉम कंपनी को कहा है कि कि अब आपको ऐसे हर सिम कार्ड पर एक फीस देनी पड़ेगी सरकार को।

लेकिन बहुत बार टेलीकॉम कंपनियां जब उनके ऊपर कोई फीस आती है तो वह उपभोक्ताओं के ऊपर और पैसा लगा देते हैं टैक्स लगा देते हैं और वो फीस असल में आपसे लेने लगते हैं इसमें आपके लिए जानकारी है कि आपको कोई पैसा नहीं देना आपको कोई फीस नहीं देनी है यह फीस टेलीकॉम कंपनियों को सरकार को देनी पड़ेगी। इसलिए अभी अगर आप चाहे जितने चाहे सिम कार्ड रखिए इसमें कोई समस्या नहीं है आपको कोई पैसा नहीं देना होगा।

WhatsApp Group Join Now
Telegram Group Join Now
Share on:

Leave a Comment