WhatsApp Group Join Now
Telegram Group Join Now
Home » टेक्नोलॉजीडिजिटल इंडिया » eSIM क्या है काम कैसे करता है इसके फायदे क्या क्या है?

eSIM क्या है काम कैसे करता है इसके फायदे क्या क्या है?

दोस्तों आज की इस जानकारी में हम बात करने वाले हैं एक नए टेक्नोलॉजी के बारे में जिसका नाम है eSIM, आज आप सभी Physical Sim Use करते हैं लेकिन टेक्नोलॉजी एडवांसमेंट कर रही है। आपको बताना चाहूंगा जिस प्रकार आप एक फिजिकल सिम को हाथ में छू सकते थे उसे हाथों से अपने फोन के अंदर लगा सकते थे, लेकिन अब eSIM के आ जाने से आपको ऐसा करने की आवश्यकता नहीं होगी। आपकी फिजिकल सिम कार्ड की पहले से जो भी सेवा होंगी उसी प्रकार से सभी सीमाओं को आप ई-सिम के साथ उपयोग कर सकते हैं।

हमारे तेजी से विकसित हो रहे डिजिटल दुनिया में, जुड़े रहना हमारे दैनिक जीवन का एक अभिन्न अंग बन गया है। पारंपरिक भौतिक सिम कार्ड, जो कभी मोबाइल संचार में प्रमुख था, को अब eSIM (एम्बेडेड सब्सक्राइबर आइडेंटिटी मॉड्यूल) नामक एक तकनीक बदला जा रहा है। eSIM एक आदर्श बदलाव का प्रतिनिधित्व करता है, जो उपयोगकर्ताओं के लिए निर्बाध कनेक्टिविटी और अधिक लचीलापन सक्षम करता है।

इस लेख में, हम eSIM क्या है इसके फायदे क्या क्या है और ईएसआइएम कार्य कैसे करता है इसके बारे में जानेंगे।

eSIM क्या है?

Esim फिजिकल सिम का एक डिजिटल रूप है, जिसे वर्चुअल सिम या ई-सिम कहते हैं जिसका पूरा नाम इंबेडेड सब्सक्राइब आइडेंटिटी मॉड्यूल है। यह वर्चुअल ई-सिम चिप आपके फोन के अंदर पहले से ही एंबेडेड करके दिया जाता है। जिस प्रकार आपके फोन के अंदर रैम इंटरनल मेमोरी दिया गए होते हैं उसी प्रकार एक ही ई-सिम चिप को फोन अंदर लगाकर दिया जाता है।

कुछ साल पहले आपने देखा था जब फोन की इंटरनल मेमोरी बहुत कम दिया जाता था हमें अलग से एक मेमोरी कार्ड लगाना पड़ता था, लेकिन अब फोन के अंदर मेमोरी कार्ड की छमता को बढ़ा दिय जा रहा है। इससे अब अलग से मेमोरी कार्ड लगाने की आवश्यकता नहीं होती है। उसी प्रकार फिजिकल सिम कार्ड अलग से लगाते हैं अब वह ई-सिम लगा हुआ आएगा बस आपको अपने मोबाइल नंबर के साथ कनेक्ट करना होगा।

eSIM इस्तेमाल कैसे करें?

दरअसल यह सुविधा फोन बनाने वाली कंपनियां पहले से ही फोन के अंदर सिम कार्ड के चिप को लगाकर देंगे। आपको बस उसे अपने फिजिकल सिम कार्ड को esim में कन्वर्ट करके एक प्रोफाइल डाउनलोड करके कनेक्ट करना होता है।

इसके लिए आपको सबसे पहले अपने फोन में ई सिम EID नंबर को अपने सिम कार्ड से मैसेज करके एक्टिवेट करना होता है जिससे आपके फोन मैं लगे ई-सिम कार्ड चेक के साथ आपका सिम कार्ड (मोबाइल नंबर) कनेक्ट हो जाता है। कनेक्ट होने के बाद यह पूरी तरह से इसी में कन्वर्ट हो जाता है। अब आप अपने फोन में बिना सिम कार्ड लगाए ही ई-सिम कार्ड की पूरी सुविधा का आनंद ले सकते हैं।

eSIM कैसे कार्य करती है?

eSIM एक डिवाइस के भीतर लगी एक छोटी चिप है जो फिजिकल सिम कार्ड के समान कार्य करती है। जिसे उस चिपका एक अलग ही कोड होता है जब आप फिजिकल सिम को esim में कन्वर्ट करते हैं तो उसी चिप कोड की मदद से यह आपके सिम के साथ लिंक हो जाता है। जिससे आपके फोन में इसी में कार्य करने लगता है। हालाँकि, eSIM डिवाइस के निर्माण के दौरान डिवाइस के सर्किटरी में टांका करके चिप लगाया जाता है और जिसे हटाया या प्रतिस्थापित नहीं किया जा सकता है।

इसके बजाय, eSIM यूजर जानकारी को संग्रहीत और प्रबंधित करने के लिए डिजिटल प्रोफाइल पर निर्भर करता है, जिससे उपयोगकर्ताओं को फिजिकल सिम कार्ड स्वैप करने की आवश्यकता के बिना मोबाइल नेटवर्क ऑपरेटरों और योजनाओं के बीच स्विच करने की अनुमति मिलती है।

eSIM के फायदे क्या है?

ई-सिम इस्तेमाल करने के सबसे बड़ा फायदा यह है कि इसे खोने का डर नहीं रहेगा और ना ही खराब होने का डर बना रहेगा। क्योंकि हम फिजिकल सिमकार्ड का इस्तेमाल करेंगे ही नहीं।

1.खो जाने या टूटने का कोई दर नही

जब आप एक फिजिकल सिम को इस्तेमाल करते हैं तो स्मार्टफोन जिसमें अपने सिम कार्ड डाल रखा है, गलती से अगर वह आपसे खो जाता है, किसी भी वजह से टूट जाता है तो यहां पर आपका सिम का डैमेज हो जाता है। खराब हो जाता है। लेकिन अब यह समस्या खत्म हो जाएगी क्योंकि यह ई-सिम को खोने या खराब होने का कोई डर नहीं रहेगा।

2.लचीलापन और सुविधा:

eSIM के साथ, उपयोगकर्ता आसानी से विभिन्न मोबाइल नेटवर्क ऑपरेटरों और योजनाओं के बीच स्विच कर सकते हैं। चाहे आप एक जगह से दूसरी जगह जाना लोकेशन बदलते हो या किसी दूसरे ऑपरेटर के साथ सिम को पोर्ट करना हो यह आसानी से कर पाएंगे।

3.डुअल-सिम कार्यक्षमता:

eSIM तकनीक ने स्मार्टफोन, टैबलेट और अन्य उपकरणों में डुअल-सिम कार्यक्षमता के लिए रोमांचक संभावनाएं खोल दी हैं। उपयोगकर्ता अब दो भौतिक सिम कार्ड प्रबंधित करने की परेशानी के बिना एक साथ दो अलग-अलग फोन नंबर या प्लान का उपयोग कर सकते हैं।

5.रिमोट एक्टिवेशन:

eSIM को एक्टिवेट करना बहुत आसान है। मोबाइल नेटवर्क ऑपरेटर आमतौर पर एक क्यूआर कोड प्रदान करते हैं, जो स्कैन होने पर आवश्यक जानकारी के साथ स्वचालित रूप से eSIM को कॉन्फ़िगर करता है। इससे दुकानों में भौतिक दौरे या मेल द्वारा सिम कार्ड आने की प्रतीक्षा करने की आवश्यकता समाप्त हो जाती है, जिससे प्रक्रिया अधिक सुविधाजनक और कुशल हो जाती है।

6.जगह बचाने वाला डिज़ाइन:

चूंकि eSIM उपकरणों के भीतर एम्बेडेड होते हैं, इसलिए भौतिक सिम कार्ड स्लॉट की आवश्यकता समाप्त हो जाती है। इससे न केवल कीमती जगह बचती है बल्कि निर्माताओं के लिए चिकने, पतले उपकरण डिजाइन करने या अतिरिक्त घटकों के लिए जगह आवंटित करने के अवसर भी खुलते हैं।

eSIM टेक्नोलॉजी का भविष्य

eSIM तकनीक तेजी से लोकप्रिय हो रही है और दुनिया भर के डिवाइस निर्माताओं और मोबाइल नेटवर्क ऑपरेटरों द्वारा अधिक व्यापक रूप से समर्थित हो रही है। इसे अपनाने से मोबाइल उद्योग में रोमांचक संभावनाओं और परिवर्तनों का मार्ग प्रशस्त होता है। जैसे-जैसे eSIM अधिक प्रचलित होता जा रहा है, हम निम्नलिखित विकासों की आशा कर सकते हैं:

1.IoT Revolution:

इंटरनेट ऑफ थिंग्स (IoT) पारिस्थितिकी तंत्र को eSIM तकनीक से महत्वपूर्ण लाभ होने वाला है। ईएसआईएम को दूरस्थ रूप से व्यवस्थित करने और प्रबंधित करने की क्षमता के साथ, स्मार्टवॉच से लेकर घरेलू उपकरणों तक के उपकरण भौतिक सिम कार्ड की आवश्यकता के बिना सेलुलर नेटवर्क से सहजता से जुड़ सकते हैं।

2.Advanced connectivity:

eSIM भौगोलिक सीमाओं को पार करने वाले गतिशील, आभासी नेटवर्क के निर्माण को सक्षम बनाता है। उपयोगकर्ता भौतिक सिम कार्ड की सीमाओं के बिना स्थानीय नेटवर्क सेवाओं तक पहुंच सकते हैं, वैश्विक कनेक्टिविटी को बढ़ावा दे सकते हैं और व्यवसायों, यात्रियों और डिजिटल खानाबदोशों को सशक्त बना सकते हैं।

3.सुरक्षा और गोपनीयता:

जैसे-जैसे eSIM अधिक प्रचलित होता जा रहा है, उपयोगकर्ता डेटा की सुरक्षा और अनधिकृत पहुंच को रोकने के लिए सुरक्षा उपाय महत्वपूर्ण होंगे। eSIM के भीतर संग्रहीत डिजिटल प्रोफाइल की सुरक्षा के लिए मजबूत एन्क्रिप्शन और प्रमाणीकरण प्रोटोकॉल लागू किए जाएंगे।

4.नेटवर्क प्रोवाइडर

इस सिम पर आ जाने से नेटवर्क प्रोवाइडर का भी फायदा होगा। उन्हें फिजिकल सिम की तरह सिम कार्ड बनाने की आवश्यकता नहीं होगी और इसे स्टोर करने ट्रांसपोर्ट करने की झंझट खत्म हो जाएगी। लोग सिंह प्रोवाइडर के साथ आसानी से स्विच कर पाएंगे।

निष्कर्ष

eSIM तकनीक मोबाइल कनेक्टिविटी में एक महत्वपूर्ण छलांग का प्रतिनिधित्व करती है, जो अद्वितीय लचीलापन, सुविधा और नवीनता प्रदान करती है। नेटवर्क ऑपरेटरों को स्विच करने, प्रोफ़ाइल को दूरस्थ रूप से सक्रिय करने और डुअल-सिम कार्यक्षमता को समायोजित करने की क्षमता के साथ, eSIM ने हमारे कनेक्ट करने और संचार करने के तरीके को बदल दिया है।

जैसे-जैसे eSIM के आसपास का पारिस्थितिकी तंत्र लगातार विकसित हो रहा है, हम एक ऐसे भविष्य की आशा कर सकते हैं जहां निर्बाध कनेक्टिविटी आदर्श होगी, व्यक्तियों और व्यवसायों को डिजिटल युग की पूरी क्षमता को अपनाने के लिए समान रूप से सशक्त बनाया जाएगा

WhatsApp Group Join Now
Telegram Group Join Now
Share on:

Leave a Comment