WhatsApp Group Join Now
Telegram Group Join Now
Home » शेयर मार्केट » क्रिप्टो करेंसी क्या है What is Cryptocurrency in Hindi?

क्रिप्टो करेंसी क्या है What is Cryptocurrency in Hindi?

Cryptocurrency एक तरह की करेंसी है। जो सिर्फ डिजिटल रूप से ज्ञात है। इसे वर्चुअल रुपया भी कह सकते है। जिसे हम देख नहीं सकते बस आभास कर सकते है। तो आज की जानकारी में हम क्रिप्टो करेंसी के बारे में पूरी डिटेल नहीं जाने वाले हैं।

ये भी पढ़े: Satoshi Nakamoto कौन है बिटकॉइन किसने बनाया?

क्रिप्टोकरेंसी क्या है What is Cryptocurrency?

क्रिप्टोक्यूरेंसी मुद्रा का एक डिजिटल या आभासी (Virtual:जिसका कोई फिजिकल प्रारूप न हो) रूप है जो अपने लेनदेन को सुरक्षित करने और नई इकाइयों के निर्माण को नियंत्रित करने के लिए क्रिप्टोग्राफी का उपयोग करता है। क्रिप्टोकरेंसी एक केंद्रीय बैंक से स्वतंत्र रूप से संचालित होती है और लेन-देन रिकॉर्ड करने और नई इकाइयों को जारी करने का प्रबंधन करने के लिए ब्लॉकचेन तकनीक जैसी विकेन्द्रीकृत प्रणालियों पर निर्भर करती है।

सबसे प्रसिद्ध Cryptocurrency Bitcoin है, लेकिन कई अन्य हैं, जैसे एथेरियम, रिपल और लिटकोइन। क्रिप्टोकरेंसी का उपयोग विभिन्न उद्देश्यों के लिए किया जा सकता है, जिसमें ऑनलाइन खरीदारी, पीयर-टू-पीयर ट्रांसफर और निवेश शामिल हैं।

Cryptocurrency पारंपरिक फिएट मुद्रा की तुलना में अलग तरह से संचालित होती है, क्योंकि यह विकेंद्रीकृत है और एक केंद्रीय प्राधिकरण पर भरोसा करने के बजाय उपयोगकर्ताओं के बीच विश्वास की प्रणाली पर काम करती है।

हालांकि, क्रिप्टोकरेंसी का मूल्य अत्यधिक अस्थिर हो सकता है और मुख्यधारा के वाणिज्य में उनका उपयोग अभी तक व्यापक रूप से स्वीकार नहीं किया गया है।

यहाँ Cryptocurrency के बारे में कुछ अतिरिक्त जानकारी दी गई है:

  1. विकेंद्रीकरण: क्रिप्टोकरेंसी विकेंद्रीकृत प्रणालियों पर आधारित होती हैं, जैसे कि ब्लॉकचेन तकनीक, जिसका अर्थ है कि वे एक केंद्रीय प्राधिकरण या बैंक से स्वतंत्र रूप से काम करती हैं। लेन-देन एक सार्वजनिक बहीखाता पर दर्ज किया जाता है जिसे दुनिया भर के कंप्यूटरों के एक नेटवर्क द्वारा बनाए रखा जाता है, जिससे किसी एक इकाई के लिए सिस्टम में हेरफेर करना मुश्किल हो जाता है।
  2. लेन-देन: क्रिप्टोक्यूरेंसी लेनदेन तेज़ और सुरक्षित हैं, और उन्हें बैंकों जैसे मध्यस्थों की आवश्यकता के बिना निष्पादित किया जा सकता है। लेन-देन को नेटवर्क नोड्स द्वारा सत्यापित किया जाता है और फिर ब्लॉकचेन पर दर्ज किया जाता है, जिससे सभी गतिविधियों का एक स्थायी और पारदर्शी रिकॉर्ड बनता है।
  3. गोपनीयता: क्रिप्टोक्यूरेंसी लेनदेन गुमनामी की डिग्री प्रदान करते हैं, क्योंकि उपयोगकर्ताओं को उनकी वास्तविक दुनिया की पहचान के बजाय सार्वजनिक पतों द्वारा पहचाना जाता है। यह अधिकारियों के लिए धन के प्रवाह को ट्रैक करना और अधिक कठिन बना सकता है और उपयोगकर्ताओं के लिए गोपनीयता का स्तर प्रदान कर सकता है।
  4. अस्थिरता: Cryptocurrency का मूल्य अत्यधिक अस्थिर हो सकता है, कीमतों में कभी-कभी तेजी से उतार-चढ़ाव का अनुभव होता है। यह उन्हें सट्टा लगाने वाले निवेशकों के लिए आकर्षक बना सकता है, लेकिन उन्हें अधिक स्थिर निवेशों की तुलना में जोखिम भरा भी बनाता है।
  5. विनियमन: क्रिप्टोक्यूरेंसी अभी भी एक अपेक्षाकृत नई तकनीक है, और इसके उपयोग के आसपास के विनियमन देश द्वारा व्यापक रूप से भिन्न होते हैं। कुछ मामलों में, इसे प्रतिबंधित या प्रतिबंधित भी किया जा सकता है, जबकि अन्य में इसे व्यापक रूप से स्वीकार किया जाता है और सक्रिय रूप से प्रोत्साहित किया जाता है।

इन चुनौतियों के बावजूद, बहुत से लोग क्रिप्टोकरेंसी को पारंपरिक वित्तीय प्रणालियों को बाधित करने और अधिक न्यायसंगत और कुशल वैश्विक अर्थव्यवस्था लाने की क्षमता के साथ एक आशाजनक तकनीक के रूप में देखते हैं।

यह दृष्टि वास्तविकता बनती है या नहीं, यह देखा जाना बाकी है, लेकिन इसमें कोई संदेह नहीं है कि Cryptocurrency महत्वपूर्ण नवाचार और विकास का क्षेत्र है, और आने वाले वर्षों में ध्यान देने योग्य है।

Cryptocurrency को हिंदी में क्या कहते हैं?

क्रिप्टोकरेंसी को हिंदी में “क्रिप्टो मुद्रा” कहते हैं। जिसे डिजिटल रुपए कह सकते है।

क्रिप्टो करेंसी कैसे काम करें?

Cryptocurrency अपने लेनदेन को सुरक्षित करने और नई इकाइयों के निर्माण को नियंत्रित करने के लिए क्रिप्टोग्राफी का उपयोग करके काम करती है। यह कैसे काम करता है इसका एक बुनियादी अवलोकन यहां दिया गया है:

  1. लेन-देन: जब कोई उपयोगकर्ता क्रिप्टोक्यूरेंसी का उपयोग करके लेनदेन करना चाहता है, तो लेनदेन नेटवर्क पर प्रसारित होता है। लेन-देन में प्रेषक का सार्वजनिक पता, प्राप्तकर्ता का सार्वजनिक पता और स्थानांतरित की जाने वाली क्रिप्टोकरेंसी की राशि जैसी जानकारी शामिल होती है।
  2. सत्यापन: नेटवर्क नोड लेनदेन को यह जांच कर सत्यापित करता है कि प्रेषक के पास पर्याप्त धन है और लेनदेन नेटवर्क के नियमों और प्रोटोकॉल का पालन करता है। इस प्रक्रिया को “सर्वसम्मति” कहा जाता है।
  3. रिकॉर्डिंग: एक बार लेन-देन सत्यापित हो जाने के बाद, यह ब्लॉकचेन पर दर्ज किया जाता है, जो सभी लेनदेन का एक सार्वजनिक खाता है। लेन-देन सत्यापित लेनदेन के “ब्लॉक” का हिस्सा बन जाता है, जिसे ब्लॉकचेन के अंत में जोड़ा जाता है।
  4. खनन: खनिक ऐसे व्यक्ति या संगठन हैं जो लेन-देन को सत्यापित करने और उन्हें ब्लॉकचेन में जोड़ने के लिए अपनी कंप्यूटर शक्ति का उपयोग करते हैं। इस काम के बदले में, खनिकों को क्रिप्टोक्यूरेंसी की नई इकाइयों के साथ पुरस्कृत किया जाता है।
  5. सुरक्षा: क्रिप्टोग्राफी का उपयोग लेनदेन को सुरक्षित करने और धोखाधड़ी को रोकने के लिए किया जाता है। प्रत्येक लेन-देन एक अद्वितीय डिजिटल हस्ताक्षर के साथ एन्क्रिप्ट किया गया है जो प्रेषक की निजी कुंजी से जुड़ा हुआ है। निजी कुंजी का उपयोग लेन-देन पर हस्ताक्षर करने के लिए किया जाता है और इसे गुप्त रखा जाना चाहिए, जबकि सार्वजनिक कुंजी का उपयोग धन प्राप्त करने के लिए किया जाता है और इसे स्वतंत्र रूप से साझा किया जा सकता है।

यह क्रिप्टोकरंसी कैसे काम करती है, इसकी एक सरलीकृत व्याख्या है, लेकिन इससे आपको तकनीक के पीछे के मूल सिद्धांतों का एक सामान्य विचार देना चाहिए। प्रश्न में क्रिप्टोक्यूरेंसी के आधार पर विशिष्ट विवरण भिन्न हो सकते हैं, लेकिन समग्र अवधारणा सभी क्रिप्टोकरेंसी में समान है।

क्या भारत के पास कोई क्रिप्टो मुद्रा है?

भारत की कोई आधिकारिक क्रिप्टोकरेंसी नहीं है, लेकिन रिजर्व बैंक ऑफ इंडिया ने डिजिटल रूपी को लांच किया है। डिजिटल रुपया या INR या ई-रुपया भारतीय रुपये का एक सांकेतिक डिजिटल संस्करण है, जिसे भारतीय रिजर्व बैंक द्वारा केंद्रीय बैंक डिजिटल मुद्रा के रूप में जारी किया जाता है। डिजिटल रुपया जनवरी 2017 में प्रस्तावित किया गया था और इसे 2022-23 वित्तीय वर्ष में लॉन्च किया जाएगा।

लेकिन ऐसी कई क्रिप्टोकरेंसी हैं जो देश में लोकप्रिय हैं। कुछ सबसे प्रसिद्ध भारतीय क्रिप्टोक्यूरेंसी एक्सचेंजों में WazirX, CoinDCX और Bitbns शामिल हैं।

हाल के वर्षों में, भारत में क्रिप्टोकरेंसी में रुचि बढ़ रही है, कई लोग उन्हें निवेश के एक आशाजनक अवसर के रूप में देख रहे हैं। हालांकि, भारत सरकार क्रिप्टोकरेंसी के प्रति अपने दृष्टिकोण में सतर्क रही है, और अभी तक उनके उपयोग के लिए एक स्पष्ट नियामक ढांचा स्थापित करना बाकी है।

2018 में, भारतीय रिज़र्व बैंक (RBI) ने बैंकों को क्रिप्टोकरेंसी से निपटने पर प्रतिबंध लगा दिया था, लेकिन इस प्रतिबंध को बाद में 2020 में भारत के सर्वोच्च न्यायालय द्वारा पलट दिया गया था। तब से, सरकार मंत्रालय के साथ, क्रिप्टोकरेंसी को विनियमित करने के तरीके तलाश रही है। वित्त इस मुद्दे की जांच के लिए एक पैनल की स्थापना करता है।

क्या भारत में क्रिप्टो करेंसी लीगल है?

2021 में मेरे ज्ञान कटऑफ के अनुसार, भारत में Cryptocurrency की कानूनी स्थिति कुछ अस्पष्ट है। भारत के सर्वोच्च न्यायालय ने मार्च 2020 में क्रिप्टोकरेंसी से निपटने वाले बैंकों पर भारतीय रिज़र्व बैंक (RBI) द्वारा लगाए गए प्रतिबंध को पलट दिया, जिससे देश में क्रिप्टोकरेंसी को प्रभावी रूप से कानूनी बना दिया गया। हालाँकि, सरकार ने अभी तक उनके उपयोग के लिए एक स्पष्ट नियामक ढांचा स्थापित नहीं किया है।

भारत सरकार Cryptocurrency को विनियमित करने के तरीके तलाश रही है और इस मुद्दे की जांच के लिए एक पैनल का गठन किया है। हालाँकि, अभी तक कोई स्पष्ट नीति स्थापित नहीं की गई है, और देश में नियामक वातावरण कुछ हद तक अनिश्चित बना हुआ है।

स्पष्ट विनियमन के अभाव में, भारत में क्रिप्टोकरेंसी का उपयोग किया जा रहा है, लेकिन मुख्यधारा के वाणिज्य में उनका उपयोग अभी तक व्यापक रूप से स्वीकार नहीं किया गया है। जैसे-जैसे विनियामक स्थिति विकसित होती है, यह संभव है कि भारत में Cryptocurrency का उपयोग भविष्य में और अधिक व्यापक हो जाए।

अपने देश में Cryptocurrency की कानूनी स्थिति के बारे में सूचित रहना हमेशा महत्वपूर्ण होता है, क्योंकि तेजी से विकसित हो रहे इस क्षेत्र में कानून और नियम तेजी से बदल सकते हैं।

WhatsApp Group Join Now
Telegram Group Join Now
Share on:

Leave a Comment