WhatsApp Group Join Now
Telegram Group Join Now
Home » डिजिटल इंडियाबैंकिंग » ईपीएफ और जीपीएफ में अंतर क्या क्या है (EPF vs GPF)?

ईपीएफ और जीपीएफ में अंतर क्या क्या है (EPF vs GPF)?

EPF और GPF दोनों भविष्य निधि योजनाएँ हैं जिनका उद्देश्य कर्मचारियों के लिए एक सेवानिवृत्ति निधि का निर्माण करना है, वे अपनी पात्रता मानदंड, प्रबंधन, योगदान नियम, पोर्टेबिलिटी, निकासी नियम और अन्य विशेषताओं में भिन्न हैं।

Epf and gpf me antar

ईपीएफ और जीपीएफ में अंतर क्या है?

EPF (कर्मचारी भविष्य निधि) और GPF (सामान्य भविष्य निधि) कर्मचारियों के लिए दो अलग-अलग प्रकार की निवेश योजनाएँ हैं।

ईपीएफ भारत सरकार के कर्मचारी भविष्य निधि संगठन (ईपीएफओ) द्वारा प्रबंधित एक सेवानिवृत्ति लाभ योजना है। यह उन सभी कर्मचारियों पर लागू होता है जो 20 से अधिक कर्मचारियों वाले प्रतिष्ठानों में काम करते हैं। नियोक्ता और कर्मचारी दोनों कर्मचारी के मूल वेतन का 12% EPF खाते में योगदान करते हैं। ईपीएफ योजना कर्मचारियों के लिए एक सेवानिवृत्ति कोष के संचय की अनुमति देती है, जिसमें योगदान, अर्जित ब्याज और अन्य लाभ शामिल हैं।

दूसरी ओर, GPF एक ऐसी ही योजना है लेकिन केवल सरकारी कर्मचारियों के लिए। यह एक प्रकार की भविष्य निधि योजना है जो भारत सरकार द्वारा अपने कर्मचारियों के लिए चलाई जाती है। जीपीएफ भी एक सेवानिवृत्ति लाभ योजना है जहां कर्मचारी और सरकार दोनों कर्मचारी के खाते में योगदान करते हैं। जीपीएफ खाते में सरकारी कर्मचारियों द्वारा किए गए योगदान पर ब्याज मिलता है और समय के साथ जमा होता है।

ईपीएफ और जीपीएफ के बीच मुख्य अंतर यह है कि जहां ईपीएफ 20 से अधिक कर्मचारियों वाले निजी संगठनों के सभी कर्मचारियों पर लागू होता है, वहीं जीपीएफ केवल सरकारी कर्मचारियों पर लागू होता है। इसके अतिरिक्त, दोनों योजनाओं की ब्याज दर और अन्य विशेषताएं भिन्न हो सकती हैं।

ईपीएफ और जीपीएफ के बीच एक और महत्वपूर्ण अंतर उनका प्रबंधन है। ईपीएफ का प्रबंधन कर्मचारी भविष्य निधि संगठन (ईपीएफओ) द्वारा किया जाता है, जो श्रम और रोजगार मंत्रालय, भारत सरकार के तहत एक वैधानिक निकाय है। दूसरी ओर, GPF का प्रबंधन भारत में संबंधित राज्य सरकारों या केंद्र शासित प्रदेशों द्वारा उनके कर्मचारियों के लिए किया जाता है।

ईपीएफ खाते पोर्टेबल होते हैं, जिसका अर्थ है कि कर्मचारी नौकरी बदलने पर अपने ईपीएफ खाते को नए नियोक्ता को स्थानांतरित कर सकता है। इसके विपरीत, जीपीएफ खाते पोर्टेबल नहीं होते हैं, और एक कर्मचारी का जीपीएफ खाता उस राज्य सरकार या केंद्र शासित प्रदेश के पास रहता है जहां वे कार्यरत थे।

योगदान के संदर्भ में, कर्मचारी और नियोक्ता दोनों ईपीएफ खाते में योगदान करते हैं, जबकि जीपीएफ के मामले में, कर्मचारी योगदान देता है, और सरकार कर्मचारी के योगदान के एक निश्चित प्रतिशत का मिलान या योगदान करती है।

दोनों योजनाओं के निकासी नियम भी अलग-अलग हैं। ईपीएफ चिकित्सा आपात स्थिति, शिक्षा और विवाह जैसे कुछ उद्देश्यों के लिए आंशिक निकासी की अनुमति देता है, जबकि जीपीएफ में निकासी के सख्त नियम हैं और केवल विशिष्ट परिस्थितियों जैसे सेवानिवृत्ति, इस्तीफा, या मृत्यु के तहत निकासी की अनुमति है।

क्या जीपीएफ ईपीएफ से बेहतर है?

यह कहना उचित नहीं है कि एक दूसरे से बेहतर है, क्योंकि ईपीएफ और जीपीएफ दोनों कर्मचारियों के विभिन्न समूहों की सेवा करते हैं और अलग-अलग विशेषताएं हैं।

ईपीएफ 20 से अधिक कर्मचारियों वाले निजी प्रतिष्ठानों में काम करने वाले कर्मचारियों पर लागू होता है, जबकि जीपीएफ सरकारी कर्मचारियों पर लागू होता है। दो योजनाओं की योगदान दरें, ब्याज दरें और अन्य विशेषताएं भी भिन्न हैं।

उदाहरण के लिए, EPF में उच्च योगदान दर है, जिसमें कर्मचारी और नियोक्ता दोनों कर्मचारी के मूल वेतन का 12% योगदान करते हैं, जबकि GPF में, सरकार कर्मचारी के योगदान के एक निश्चित प्रतिशत का मिलान या योगदान कर सकती है। दूसरी ओर, जीपीएफ पर ब्याज दर ईपीएफ की तुलना में अधिक होती है, और सरकार की भागीदारी के कारण जीपीएफ को अक्सर अधिक सुरक्षित निवेश विकल्प माना जाता है।

इसके अतिरिक्त, EPF चिकित्सा आपात स्थिति, शिक्षा और विवाह जैसे कुछ उद्देश्यों के लिए आंशिक निकासी की पेशकश करता है, जबकि GPF में निकासी के सख्त नियम हैं और केवल सेवानिवृत्ति, इस्तीफे या मृत्यु जैसी विशिष्ट परिस्थितियों में निकासी की अनुमति है।

इसलिए, यह तय करने से पहले कि आपके लिए कौन सी योजना बेहतर है, अपने रोजगार की स्थिति और विशिष्ट आवश्यकताओं पर विचार करना महत्वपूर्ण है।

WhatsApp Group Join Now
Telegram Group Join Now
Share on:

Leave a Comment