WhatsApp Group Join Now
Telegram Group Join Now
Home » वर्डप्रेसवेब सीईओ » Hosting kya hai खरीदने से पहले इन 8 प्रकार की होस्टिंग के बारे में जाने?

Hosting kya hai खरीदने से पहले इन 8 प्रकार की होस्टिंग के बारे में जाने?

वेब होस्टिंग क्या है? वेब होस्टिंग एक ऐसी सेवा है जो इंटरनेट पर वेबसाइट को Store, Manage और Published करने के लिए Server Space, Resources और Connectivity प्रदान करती है।

वेब होस्टिंग के साथ, ग्राहक एक सर्वर का एक हिस्सा किराए पर लेते हैं, जिसका उपयोग तब उनकी वेबसाइट को होस्ट करने, उनकी फ़ाइलों और डेटा को स्टोर करने और उनकी साइट पर ट्रैफ़िक Management करने के लिए किया जाता है।

होस्टिंग क्या है होस्टिंग के प्रकार

होस्टिंग देने वाला (Hosting Provider) Build in Hardware और Software को Manage करते हैं, Users को उनकी वेबसाइट और एप्लिकेशन तक Trust और Security पहुंच प्रदान करते हैं।

विभिन्न प्रकार की Hosting Service हैं, जैसे Managed Hosting, Shared hosting, Dedicated Hosting, VPS Hosting, Cloud Hosting और WordPress Hosting हैं, जिनमें से सभी के अपने अलग अलग लाभ और सीमाएँ हैं।

ये भी पढ़े: क्या फ्री वेब होस्टिंग लेना और इस्तेमाल करना सही है?

Table of Contents

होस्टिंग लेने से पहले किन किन बातों का ध्यान रखना चाहिए?

यदि आप पहले बाहर होस्टिंग खरीदने जा रहे हैं, तो ऐसे कुछ मुख्य बिंदु है जो आपको Hosting खरीदने से पहले जरूर ध्यान देना चाहिए।

1.होस्टिंग की कीमत:

वेब होस्टिंग की कीमत, होस्टिंग सेवा के प्रकार, आवश्यक जरूरतों और प्रदान किए गए सपोर्ट के आधार पर अलग अलग होते है। कुछ Hosting Service को फ्री में भी दिया जाता है, जबकि अन्य को प्रति माह कई हजार रुपए खर्च करने पड़ सकते हैं। तो एक Hosting Purchase करने से पहले आपको Hosting Price के बारे में जरूर जान लेना चाहिए।

2.बैंडविड्थ और स्टोरेज:

वेब Hosting Service में आमतौर पर एक Limit मात्रा में Bandwidth और स्टोरेज शामिल होता है, जो वेबसाइट द्वारा नियंत्रित किए जा सकने वाले ट्रैफ़िक और डेटा की मात्रा निर्धारित करता है। बैंडविड्थ और स्टोरेज सीमा से अधिक होने पर अतिरिक्त शुल्क या वेबसाइट धीमा हो सकता है। तो हुस्न देते समय बैंडविथ और स्टोरेज चेक करना है। आपके वेबसाइट कट ट्रैफिक कितनी है और आपकी वेबसाइट कितने साइज में यानी कि कितना डाटा स्टोर करती है इसके बारे में भी जान लेना जरूरी है।

3.टेक्निकल सहायता:

अधिकांश वेब होस्टिंग सेवाएँ ग्राहकों को अपनी वेबसाइटों की इंस्टालेशन और इस्तेमाल के दौरान आने वाली किसी भी समस्या के लिए तकनीकी सहायता प्रदान करती हैं। समर्थन का स्तर व्यापक रूप से भिन्न हो सकता है, कुछ Hosting Service 24/7 सहायता प्रदान करती हैं, और अन्य सीमित समर्थन प्रदान करती हैं। तुझे भी आप एक बैनर है और एक पहली बार होस्टिंग का इस्तेमाल करने जा रहे हैं तो होस्टिंग कस्टमर सपोर्ट कैसा है उसके बारे में जरूर जान लेना है।

4.कंट्रोल पैनल:

आमतौर पर होस्टिंग प्रदाता द्वारा User को Control Panel प्रदान किया जाता है ताकि यूजर को अपनी वेबसाइट, डेटाबेस, ईमेल खाते और अन्य सेटिंग को मैनेज करने की अनुमति मिल सके। अलग-अलग होस्टिंग प्रोवाइडर अलग-अलग कंट्रोल पैनल का उपयोग कर सकते हैं, इसलिए ऐसे प्रदाता को चुनना महत्वपूर्ण है जो ऐसा कंट्रोल पैनल प्रदान करता हो जो उपयोग में आसान हो और ग्राहक की जरूरतों को पूरा करता हो।

5.अपटाइम:

अपटाइम उस समय की मात्रा को व्यक्त करता है जब कोई वेबसाइट पर आने वाले विजिटर को आने में कोई त्रुटि ना है। hosting Provider आमतौर पर एक निश्चित स्तर के 99.99% Uptime की गारंटी देते हैं। यह आपकी साइड के लिए बहुत ही मायने रखता है। क्योंकि यदि आप की वेबसाइट पर कोई विजिटर आता है और आपकी वेबसाइट लोड होने में ज्यादा समय लगाती है, या हो जाता है तो वहां पर आपकी वेबसाइट के लिए बहुत ही खराब अनुभव रहेगा और यह सर्च इंजन ऑप्टिमाइजेशन के लिए भी बहुत खराब इफेक्ट पड़ेगा।

6.होस्टिंग बैकअप:

होस्टिंग प्रदाता यह सुनिश्चित करने के लिए Automatic Backup सेवा देते हैं कि Hardware Error या Data Lose के मामले में ग्राहकों की वेबसाइटें और डेटा सुरक्षित हैं। यह जान लेना महत्वपूर्ण है कि एक होस्टिंग प्रदाता अपनी सेवा में Daily Backup देता है या नहीं, और होस्टिंग द्वारा देने वाले दिन बैकअप को रिस्टोर करना कितना आसान है यह भी मायने रखता है। तो यदि आपको अपनी Hosting Backup प्रतिदिन चाहिए तो उसके लिए होस्टिंग लेने से पहले जरूर देखना है।

होस्टिंग के कार्य और उद्देश्य क्या है?

वेब होस्टिंग का उद्देश्य व्यक्तियों को अपनी वेबसाइट को इंटरनेट पर स्टोर, मैनेज और पब्लिश करने के लिए एक सुरक्षित और विश्वसनीय प्लेटफॉर्म प्रदान करना है। ग्राहकों के प्रति होस्टिंग का उद्देश्य क्या क्या होता है नीचे हम एक-एक करके जानेंगे।

1.वेबसाइट के फ़ाइलें और डेटा को स्टोर करना:

HOSTING PROVIDER ग्राहकों को उनकी वेबसाइट फ़ाइलों, फोटो और अन्य डेटा को सुरक्षित रखने और सर्वर तक पहुंचाने का काम करते है।

2.वेबसाइट पर आने वाले ट्रैफ़िक को मैनेज करना:

वेब Hosting Provider वेबसाइट पर आने वाले लोगों को अच्छी गति के साथ और ट्रैफिक मैनेज करने के लिए सहायक होते है।

3.वेबसाइट को सर्च इंजन के माध्यम से लोगो तक पहुंचना:

वेब Hosting व्यक्तियों को अपनी वेबसाइट को जनता के लिए उपलब्ध कराने की अनुमति देती है, जिससे उन्हें इंटरनेट पर किसी भी जानकारी को पहुंचाने में उपयोगी होता है।

4.वेबसाइट Owner को टेक्निकल सहायता देना:

Hosting प्रदाता आमतौर पर ग्राहकों को अपनी वेबसाइट को इंस्टॉल के दौरान आने वाली किसी भी समस्या के लिए तकनीकी सहायता प्रदान करते हैं।

5.कंट्रोल पैनल प्रदान करना:

बहुत से वेब होस्टिंग अपने ग्राहकों को अपनी वेबसाइट, डेटाबेस, ईमेल खाते और अन्य संसाधनों का मैनेज करने के लिए एक कंट्रोल पैनल प्रदान करती हैं।

कुल मिलाकर, वेब होस्टिंग प्रोवाइडर अपने यूजर्स को एक मजबूत ऑनलाइन Website Installation and Setup करने, और वेबसाइट को पूरी तरह से मैनेज करके सर्च इंजन तक पहुंचाने का कार्य करती है।

Hosting के प्रकार: होस्टिंग कितने प्रकार की होती है?

होस्टिंग के कई प्रकार हैं, जिनमें से प्रत्येक की अपनी विशेषताओं और लाभ है:

1.मैनेज होस्टिंग:

Managed Hosting एक प्रकार की Hosting है जहाँ Hosting Provider एक मैनेज सर्वर प्रदान करता है और ग्राहक को तकनीकी सहायता प्रदान करता है। यह उन ग्राहकों के लिए एक अच्छा विकल्प है जो अपनी वेबसाइट बनाना चाहते हैं लेकिन स्वयं सर्वर का मैनेज नहीं करना चाहते हैं।

ध्यान दे यह एक Basic Web Hosting है। इसमें आपको सीमित सेवाए प्रदान की जाती है।

2.शेयर्ड होस्टिंग:

Shared Hosting एक Cost प्रभावी सॉल्यूशन है जहां कई यूजर्स और उनकी वेबसाइट को एक ही सर्वर के साथ के साथ मैनेज किए जाते हैं। यह कम से मध्यम ट्रैफ़िक वाली छोटी वेबसाइटों के लिए ठीक होता है।

3.क्लाउड होस्टिंग:

Cloud Hosting एक स्केलेबल और Flexible Hosting समाधान है जो ग्राहकों को वर्चुअल सर्वर और संसाधनों के नेटवर्क तक पहुंचने की अनुमति देता है। ज्यादा ट्रैफ़िक वाले वेबसाइट और उनकी ज्यादा जरूरत वाली वेबसाइटों के लिए Cloud Hosting एक अच्छा विकल्प है।

4.VPS होस्टिंग:

VPS (वर्चुअल प्राइवेट सर्वर) Hosting ग्राहकों को Dedicated Resource और एक अलग Server प्रदान करता है जो अन्य उपयोगकर्ताओं से अलग होता है। VPS होस्टिंग उन वेबसाइटों के लिए एक अच्छा विकल्प है जिनमें मध्यम से ज्यादा ट्रैफ़िक और अधिक स्पीड वाली Resorce की आवश्यकताएं हैं।

5.डेडीकेटेड वेब होस्टिंग:

Dedicated Hosting ग्राहकों को अपना खुद का अलग से Physical Server मिलता है, जिससे उन्हें सर्वर का पूर्ण नियंत्रण और गोपनीयता मिलती है। Dedicated Hosting High Traffic, High Flexibility मिलता है। यदि आपकी वेबसाइट में ज्यादा ट्रैफिक है तो आपको डेडीकेटेड होस्टिंग लेना चाहिए।

6.वर्डप्रेस होस्टिंग:

WordPress Hosting एक प्रकार की होस्टिंग है जिसे विशेष रूप से वर्डप्रेस वेबसाइटों के लिए डिज़ाइन किया गया है। यह ग्राहकों को वर्डप्रेस के लिए optimized resource प्रदान करता है और इसमें ऑटोमेटिक अपडेट और सुरक्षा उपायों जैसी अतिरिक्त सुविधाएं शामिल हो सकती हैं।

7.Reseller होस्टिंग

Reseller होस्टिंग एक प्रकार की वेब होस्टिंग सेवा है जहां एक व्यक्ति या कंपनी एक होस्टिंग प्रदाता से बड़ी मात्रा में सर्वर स्थान और बैंडविड्थ खरीद सकती है और फिर इसे अपने ग्राहकों को छोटे, अधिक प्रबंधनीय पैकेज के रूप में पुनर्विक्रय कर सकती है।

8.CDN होस्टिंग

सीडीएन (सामग्री वितरण नेटवर्क) वितरित सर्वरों की एक प्रणाली है जो उपयोगकर्ताओं को उनके भौगोलिक स्थान के आधार पर वेब सामग्री वितरित करती है। सीडीएन होस्टिंग में एक वेब सर्वर पर होस्ट करने के बजाय सीडीएन नेटवर्क पर एक वेबसाइट की स्थिर संपत्तियों, जैसे छवियों, वीडियो और स्टाइलशीट्स को होस्ट करना शामिल है।

1.मैनेज होस्टिंगयदि आपको होस्टिंग मैनेज करने के बारे में नहीं पता तो आपको मैनेज होस्टिंग लेने चाहिए क्योंकि इस प्रकार की होस्टिंग को होस्टिंग प्रोवाइडर ही मैनेज कर सकता है। आपको होस्टिंग पैनल मैनेज करने के लिए ऑप्शन नहीं मिलता है।
शेयर्ड होस्टिंगकई वेबसाइटों को एक ही सर्वर पर साझा करके मैनेज करने वाली होस्टिंग शेयर्ड होस्टिंग कहते हैं। इस तरह की होस्टिंग बहुत ही कीमती होती हैं लेकिन यदि आप की वेबसाइट में ज्यादा ट्रैफिक हो तो इसका इस्तेमाल ना करें। होस्टिंग कई यूजर्स के साथ साझा होने के कारण इसका डाउनटाइम बहुत ज्यादा होता है
क्लाउड होस्टिंगज्यादा ट्रैफ़िक वाले वेबसाइट और उनकी ज्यादा जरूरत वाली वेबसाइटों के लिए Cloud Hosting एक अच्छा विकल्प है।
VPS होस्टिंगVPS (वर्चुअल प्राइवेट सर्वर) Hosting ग्राहकों को Dedicated Resource और एक अलग Server प्रदान करता है।
डेडीकेटेड वेब होस्टिंगDedicated Hosting ग्राहकों को अपना खुद का अलग से Physical Server मिलता है, जिससे उन्हें सर्वर का पूर्ण नियंत्रण और गोपनीयता मिलती है। Dedicated Hosting High Traffic, High Flexibility मिलता है।
वर्डप्रेस होस्टिंगविशेष रूप से वर्डप्रेस प्लेटफॉर्म पर निर्मित वेबसाइटों के लिए अनुकूलित होस्टिंग।
Reseller होस्टिंगइस तरह की होस्टिंग को क्लाइंट को देने के लिए लिया जाता है। जिसमे आपको कई बैंडविथ और ज्यादा मात्रा में सरवर प्राप्त होता है जिससे वह अपने क्लाइंट को छोटे-छोटे मत आना बांट सकते हैं।
CDN होस्टिंगउपयोगकर्ताओं को उनके स्थान के आधार पर स्थिर सामग्री, जैसे छवियों और वीडियो के वितरण को वितरित करने के लिए सर्वर के नेटवर्क का उपयोग करता है, और ऐसे हस्टिंग में सीरियल का उपयोग किया जाता है जिससे कंटेंट डिलीवरी बहुत ही फास्ट होती है।

ये भी पढ़े: Hostinger Hosting में WordPress कैसे Install करें (1 मिनट में)?

मुझे कौन सा होस्टिंग लेना चाहिए?

वेबसाइट के लिए मुझे कौनसी Hosting लेना चाहिए यह कौन सी Hosting खरीदें यह सवाल आपके मन में जरूर आया होगा। वेबसाइट के लिए एक अच्छा Hosting बहुत मायने रखता है एक सही प्रकार की होस्टिंग चुनना वेबसाइट की विशिष्ट आवश्यकताओं पर निर्भर करता है, जिसमें ट्रैफ़िक, संसाधन, सुरक्षा और लागत शामिल हैं। यानी कि पहली बार वेबसाइट बनाने जा रहे हैं, सबसे जरूरी है एक Good Hosting खरीदना है।

आप हमारी वेबसाइट में सभी प्रकार की होस्टिंग और उनके फायदे और नुकसान के बारे में जान सकते है। और यदि आपको वेबसाइट बनाने के लिए Hosting लेना है तो inderblogger[@]gmail.com हमसे ईमेल से संपर्क कर सकते है। हम आपको आपकी वेबसाइट के लिए एक बेहतर होस्टिंग प्रदान करने में मदत करेंगे।

WhatsApp Group Join Now
Telegram Group Join Now
Share on:

Leave a Comment