Fastag Work Process- फास्टैग कैसे काम करता है?

आज की इस जानकारी में हम जानेंगे Fastag Work कैसे करता है। सिर्फ फास्टैग की पीछे की टेक्नोलॉजी ही नहीं बल्कि फास्टैग से होने वाले फ्रॉड के बारे में भी समझेगी और उससे बचने का तरीका भी जानेंगे और इन सब के अलावा यह भी जाने के लिए की टोल लेन से गुजरते समय आपके और आपके वाहन के आगे वाली गाड़ी के बीच में 4 मीटर का दूरी होना क्यों जरूरी है।

Fastag Work
Fastag Work

फास्टैग कितने प्रकार के हैं कितने रंग के फास्टैग जारी किया गया

भारत सरकार ने कुल 7 रंग के फास्टैग जारी किए हैं कार जीप इत्यादि के लिए वॉयलेट कलर का फास्टैग है मिनी बस और टूरिस्ट वाले गाड़ी के लिए ऑरेंज कलर का फास्टैग है। जिसे पता ना हो वह जान ले कि किसी गाड़ी का वो पार्ट जो टायर्स को जोड़ता है और पहिए को घुमाता है।

उसे एक्सेल कहते हैं 2xl वाले बस और ट्रक के लिए ग्रीन कलर का फास्टैग है और 3xl बाले बस और ट्रक के लिए येलो कलर यानी कि पीलिया का फास्टैग है 5 या 6 एक्सेल वाले बस और ट्रक के लिए पिंक यानी कि गुलाबी कलर का फास्टैग है क्या 7 या उससे ज्यादा एक्सेल वाले ट्रक के लिए स्काई ब्लू कलर का फास्टैग है एचसीएम यानी कि हाईवे कंस्ट्रक्शन मशीन जैसे जेसीबी इत्यादि के लिए ब्लैक कलर यानी कि काले रंग का फास्टैग है जारी किया गया है।

फास्टैग काम कैसे करता है How Fastag Work?

Fastag Work- राष्ट्रीय इलेक्ट्रॉनिक टोल कलेक्शन के प्रोग्राम के तहत जारी किया गया फास्टैग आरएफआईडी टेक्नोलॉजी (RFID Technology) के आधार पर काम करता है जिसे रेडियो फ्रिकवेंसी आईडेंटिफिकेशन टेक्नोलॉजी कहा जाता है यह ऐसी टेक्नोलॉजी है जो इलेक्ट्रोमैग्नेटिक स्पेक्ट्रम में रेडियो तरंग की सहायता से काम करता है।

आसान शब्दों में कहें तो आरएफआईडी (RFID) की टेक्नोलॉजी में दो कंपोनेंट में पहला फास्टैग और दूसरा आरएफआईडी स्कैनर जो इस फास्टैग को स्कैन करता है जैसे ही आपकी गाड़ी इस फास्टैग लेन में इंटर करती है आरएफआईडी स्कैनर आपकी गाड़ी पर लगी फास्टैग को स्कैन करने लगता है अब फास्टैग में कोड और बैंक नाम सब कुछ लिखा हुआ होता है। और कुछ ऐसे कोर्स है जो हम देख नहीं पाते हैं इश्क में चिप और एंटीना भी लगा होता है इस चीज में आपकी गाड़ी की सारी जानकारी होती है जिसकी सहायता से यह पता लगाया जाता है की उस गाड़ी का टोल टैक्स कितना होगा।

फास्टैग में लगे एंटीना की मदद से आरएफआईडी स्कैनर आपकी गाड़ी का डिटेल टैक्स कितना हुआ है। सब पता कर लेता है सारी जानकारी एकत्रित होते ही आरएफआईडी स्कैनर (RFID Scaner) सभी जानकारी टोल प्लाजा सिस्टम को यानी कि कंप्यूटर को भेज देता है। और यह सब जानकारी बैंक में भी भेज दी जाती है और बैंक इस पेमेंट को स्वीकार करेगा। उसके बाद आप का टोल टैक्स कट जाता है। टोल प्लाजा पेमेंट सक्सेसफुली हो जाने के बाद टोल प्लाजा बैरियर ऑटोमेटिक खुल जाता है।

फास्टैग में फ्रॉड कैसे होता है ?

ऊपर बताई गई जाजनकारी मे हमने Fastag Work के बारे मे जाना चलिए बात करते हैं फास्टटैग द्वारा फ्रॉड कैसे हो हो रहा है। जी हां आपने सही सुना आजकल फास्टटैग तो जरा फ्रॉड गिरी भी चल रही है। जब आपका फास्टैग करता है तो ईश्वर बैंक आपके रजिस्टर मोबाइल नंबर पर मैसेज आता है। आप की खातिर से इतना पैसा टोल टैक्स कट गया है पर समस्या यह है कि यह मैसेज आने में 10 मिनट से 1 घंटे बाद आता है यानी कि जब तक आपके पास एसएमएस पहुंचेगा आप उस टोल प्लाजा से काफी दूर चले गए होंगे मैसेज लेट आने की वजह से फास्टैग में बहुत बड़ा फ्रॉड चल रहा है। इसके बारे में आगे जानेंगे।

1 thought on “Fastag Work Process- फास्टैग कैसे काम करता है?”

  1. बहुत जी शानदार जानकारी है ….धन्यवाद और साधुवाद .
    मैंने बहुत से वेबसाइट पर विजिट किया पर मेरे प्रश्नों का जवाब https://hindihelp4u.com/ इसी वेबसाइट पर मिल पाया है ..बहुत ही आभार

    Reply

Leave a Comment