Home » शेयर मार्केट » Equity Share क्या है इक्विटी ट्रेडिंग क्या है

Equity Share क्या है इक्विटी ट्रेडिंग क्या है

स्टॉक मार्केट का क्या मतलब होता है इक्विटी ट्रेडिंग और इक्विटी इन्वेस्टिंग क्या होता है आज की जानकारी में हम इसी के बारे में जानने वाले हैं।

Equity-क्या-है-इक्विटी-ट्रेडिंग-क्या-है

इक्विटी क्या है (What is Equity) ?

इक्विटी का मतलब होता है भी बिजनेस की ओनरशिप। हम जानते हैं कि किसी कंपनी के पार्ट को बाय करने का मतलब होता है उस कंपनी के छोटे शेयर को बाय करना और इन्वेस्टिंग की लैंग्वेज में इस छोटे पार्ट को Equity कहते हैं।तो हम यह कह सकते हैं कि किसी कंपनी के शेयर को बाय करके हम उस कंपनी में इक्विटी बाय करते हैं।

चलिए हम इसे एक उदाहरण के तौर पर समझते हैं। मान लेते हैं 5 दोस्तों ने मिलकर एक कंपनी स्टार्ट किया। पांचों दोस्तों ने 22 करोड़ रुपए लगाएं और 10 करोड़ से बिजनेस को स्टार्ट किया कंपनी के लीगल रजिस्ट्रेशन में कंपनी को उन्होंने टोटल 1 करोड़ शेयर में डिवाइड किया साथ ही सभी ने डिसाइड किया कि कंपनी में सारे लोग बराबरी से काम करेंगे।

इसलिए कंपनी की हिस्सेदारी को भी सभी ने आपस में बराबरी से डिवाइड किया इस तरह हर एक फाउंडर को कंपनी की टोटल 1 करोड़ शेयर में से सभी को 20-20 लाख शेयर मिले। तो दोस्तों कंपनी की 100% ओनरशिप या इक्विटी अभी कंपनी के फाउंडर के पास है। जिसकी टोटल वैल्यू अभी ₹10 करोड़ है। क्योंकि कंपनी के टोटल पांच फाउंडर है तो सभी के पास कंपनी की 20% Equity होगी।

अब मान लेते हैं कुछ समय बाद कंपनी को और बड़ा करने के लिए ₹50 लाख की जरूरत हुई तो सभी फाउंडर्स ने इसके लिए कंपनी की टोटल 50% इक्विटी यानी 50 लाख शेयर को आईपीओ में सेल किया और पब्लिक से टोटल ₹5 करोड़ इक्कठा किया। अब हम यहां पर देख सकते हैं कि कंपनी ने आईपीओ में अपने 50 लाख शेयर्स को सेल किया जो कंपनी के टोटल 50% Equity के बराबर था। इसका मतलब यह है, कि कंपनी ने आईपीओ में हर एक लाख शेयर पर अपनी 1% इक्विटी को शेयर किया।

अगर हम इस कंपनी के एक लाख शेयर्स बाय कर ले, तो हम इस कंपनी में 1% इक्विटी बाय कर लेंगे और हम इस कंपनी के 1% का मालिक बन जाएंगे तो दोस्तों इस तरह से इन्वेस्टिंग में इक्विटी होती है और कुछ नही बल्कि यह कंपनी के ओनरशिप को बताता है। कंपनियां अपनी इक्विटी को शेयर्स में डिवाइड करके पब्लिक में सेल करती हैं।

एक इन्वेस्टर एक कंपनी के जितने ज्यादा शेयर को बाय करता है उसके पास कंपनी की उतनी ज्यादा इक्विटी होती है। यही वजह है कि अक्सर स्टॉक मार्केट को Equity मार्केट, स्टॉक इन्वेस्टिंग को Equity investing और स्टॉक ट्रेडिंग को इक्विटी ट्रेडिंग कहा जाता है हमेशा याद रखें कि जब भी हम किसी कंपनी के स्टॉक को बाय करते हैं तो हम उस कंपनी में इक्विटी बाई करते हैं।

Share on:

Leave a Comment